Jindal Steel Ltd Recruitment 2023। For Fresher Engineers Recruitment 2023

Jindal Steel Ltd के बारे में :

Jindal Steel And Power Ltd Company पूर्णतः एक भारतीय कंपनी है जिसका मुख्यालय नई दिल्ली में है। जिंदल स्टील कंपनी, OP जिंदल की एक सहायक कंपनी है अगर बात करे इसके फैलाव के बारे में तो ये कंपनी इस्पात उत्पादन के मामले में भारत की तीसरी सबसे बड़ी कंपनी है जबकि यह रेल उत्पादन के हिसाब से यह भारत की एक लौती निजी कंपनी है। जिंदल स्टील की स्थापना 1952 में की गई थी। भारतीय अर्थव्यवस्था में इस कंपनी ने अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। यह कंपनी स्वर्ण वर्षों से निरंतर अच्छी गुणवत्ता और नवाचार के साथ अपनी पहचान बनाए रखी है।

Jindal Steel Ltd कंपनी भारत में काफी जगह पर अपनी शाखा का निर्माण किया है जिसमे से कुछ प्रमुख कंपनियों के नाम निम्न है ;

<

1.) हिसार , हरियाणा

2.) रायगढ़, छत्तीशगढ़

3.) अंगुल, उड़ीसा

4.) विजयनगर, कर्नाटक

इन सभी कंपनियों में से जिंदल स्टील की भारत में सबसे बड़ी कंपनी अंगुल, उड़ीसा राज्य में स्थित है। इस कंपनी की खास बात ये है की यह दुनिया की पहली DRI सयंत्र स्थापित कंपनी है

DRI सयंत्र का क्या मतलब होता है ?

DRI, जिसे डायरेक्ट रेडक्टेड आयरन संयंत्र के रूप में जाना जाता है, यह एक नई विधि है जो इस्पात उत्पादन में नए तरीके को प्रस्तुत करती है। इसका मुख्य उद्देश्य सीधे रूप से कार्बन डाई ऑक्साइड को आयरन उपादान में बदलना है, जिससे तेज़ी से और अच्छी गुणवत्ता वाला इस्पात उत्पन्न होता है।

कार्बन डाई ऑक्साइड को आयरन उत्पादन में बदलने की प्रक्रिया कैसे की जाती है ?

सीआईओ2 (कार्बन डाइऑक्साइड) को आयरन उत्पादन में बदलने की प्रक्रिया को “कार्बन कैप्चर और स्टोरेज” कहा जाता है। इस प्रक्रिया में निम्नलिखित चरण होते हैं

  1. DRI सयंत्र: DRI सयंत्र में, आयरन ओरे को गैस के संपर्क में लाकर उसे हीट किया जाता है। इस प्रक्रिया में, सीआईओ2 को आयरन ओरे से रिलीज़ करने के लिए उच्च तापमान पर काम किया जाता है।
  2. कार्बन कैप्चर: इसके बाद, उत्पन्न हुए सीआईओ2 को पकड़ने या कैप्चर करने के लिए विभिन्न तकनीकी समाधानों का उपयोग किया जाता है। यह विभिन्न अवस्थाएं शामिल कर सकती हैं, जैसे कि आपसी गैस अल्जेब्रा, अमीना सोल्वेंट्स, और अन्य तकनीकी प्रक्रियाएं।
  3. स्टोरेज और इस्तेमाल: एक बार जब सीआईओ2 को कैप्चर किया जाता है, इसे स्टोर किया जा सकता है या फिर इस्तेमाल किया जा सकता है। यह कार्बन न्यूट्रल या इस्पात उत्पादन में सुरक्षित रूप से इस्तेमाल हो सकता है, जिससे वायरमेंट को कम किया जा सकता है।

DRI सयंत्र कैसे काम करता है ?

DRI सयंत्र में, आयरन ओरे को गैस के संपर्क में लाकर उसे हीट करा जाता है, जिससे आयरन ओरे में से ऑक्सीजन हटा दिया जाता है और शुद्ध आयरन बचता है। इस प्रक्रिया को “रेडक्शन” कहा जाता है, जो आयरन के ऑक्सीजन को हटाकर इस्पात उत्पन्न करने में मदद करता है।

इस्पात उत्पादन में “सल्फ़ाइडीकरण” प्रक्रिया क्या है ?

  1. आयरन ओरे का चयन: सल्फाइडीकरण प्रक्रिया की शुरुआत उच्च सल्फर धातु या आयरन ओरे का चयन करके होती है। आयरन ओरे में सल्फर धातु अक्सीजन के साथ इकट्ठा होता है, जिससे इस्पात में अधिक ऑक्सीजन बचता है।
  2. अग्निकुंजी रीढ़ीय और रीढ़ीय विद्युत: इसपात उद्दीपकों में, आयरन ओरे को एक अग्निकुंजी रीढ़ीय में प्लेस किया जाता है और फिर उसे उच्च तापमान और आधुनिक रीढ़ीय विद्युत की मदद से गरमाया जाता है।
  3. सल्फाइडीकरण प्रक्रिया: गरम होते हुए, सल्फर धातु और आयरन ओरे के बीच रसायनिक प्रतिक्रिया होती है, जिसमें सल्फाइड्स उत्पन्न होते हैं। इस प्रक्रिया में, सल्फर धातु आयरन ओरे के साथ मिलता है और सल्फाइड्स की रूप में निकल जाता है।
  4. विशेषज्ञता: इस प्रक्रिया में विशेषज्ञता है कि सल्फाइड्स, जो उत्पन्न होते हैं, वे आक्सीजन के साथ प्रतिस्थापित नहीं होते हैं, जिससे अधिक ऑक्सीजन इस्पात में बचता है।
  5. सल्फाइडीकरण का परिणाम: इस प्रक्रिया के परिणामस्वरूप, सल्फाइड्स को इस्पात से हटाने के लिए अलग किया जा सकता है, जिससे शुद्ध आयरन बचता है और इसे आगे की प्रक्रिया में उपयोग किया जा सकता है।

गैल्वेनाइजिंग प्रक्रिया:

  1. साफ सफाई: स्टील को पहले साफ सफाई और ट्रीट किया जाता है ताकि उसमें किसी भी रेजिड्यूयल धातु या धूल अवशेष न रहे।
  2. जिंक बाथ: तात्कालिक ताप और विशिष्ट रासायनिक तत्वों के साथ, स्टील को जिंक बाथ में डाला जाता है। यहां, स्टील और जिंक का संपर्क होता है जिससे यह आवृत्त हो जाता है।
  3. धातु की स्थिति: इसके बाद, स्टील या इस्पात को विशेष ताप और अवस्था में रखा जाता है ताकि यह जिंक के साथ आवृत्त हो सके।
  4. गैल्वेनिजेशन: स्टील और जिंक का मिश्रण बनने के बाद, इसे गैल्वेनाइजिंग कहलाती है। यह प्रक्रिया धातु की सतह पर एक टिन लेयर को बनाती है जिससे यह कोरोजन और ऊर्जा के प्रभावों से बच सकता है।
  5. परिष्कृत उत्पाद: गैल्वेनाइजिंग के बाद, इस्पात या स्टील का उत्पाद एक परिष्कृत और सुरक्षित सतह के साथ होता है जो विभिन्न आवासीय और औद्योगिक अनुप्रयोगों के लिए उपयुक्त होता है।

जिंदल स्टील में इस्पात बनाने की पूरी प्रक्रिया:

  1. राउ स्टील इंडस्ट्री: इसपात बनाने की प्रक्रिया की शुरुआत राउ स्टील इंडस्ट्री में होती है, जहां से आयरन ओरे (जैसे कि हेमेटाइट या मैग्नेटाइट) प्राप्त किया जाता है।
  2. आयरन निकालना: आयरन ओरे को सुल्फाइडीकरण की प्रक्रिया के माध्यम से सुल्फाइड्स में परिणामित किया जाता है, जिससे फेर्रोस आयरन (FeS) उत्पन्न होता है। इसके बाद, फेर्रोस आयरन को उच्च तापमान और प्रेशर के तहत तापित किया जाता है जिससे सीआईओ2 को निकालकर शुद्ध आयरन (स्पॉंज आयरन) बचता है।
  3. स्पॉंज आयरन प्रक्रिया: अब, स्पॉंज आयरन को हॉट ब्रीक्स कोयला की मदद से हीट किया जाता है, जिससे इस्पात बनाने के लिए लाखों टन के स्तर पर उच्च गुणवत्ता वाला लिक्विड आयरन उत्पन्न होता है।
  4. हॉट रोलिंग मिल: हॉट रोलिंग मिल में, यह लिक्विड आयरन धातुओं को आवश्यक आकार में मोलबंद बनाने के लिए हॉट रोल्ड किया जाता है। इस प्रक्रिया में, आयरन को धातु बनाने के लिए अनेक बार गरमाया जाता है और फिर उच्च दबाव और तेज गति से रोल किया जाता है।
  5. कोल्ड रोलिंंग मिल: हॉट रोलिंग के बाद, इस्पात को कोल्ड रोलिंग मिल में ले जाया जाता है, जहां इसे आवश्यक आकार और गुणवत्ता में मोलबंद बनाया जाता है। इसमें इस्पात को ठंडा किया जाता है ताकि इसकी धातुओं में और सुजाव आ सके।
  6. गैल्वेनाइजिंग और अन्य उपाय: अन्य प्रक्रियाओं में, इस्पात को गैल्वेनाइज किया जा सकता है, जिससे इसे आंचनीय बनाया जाता है और इसे आयरन और इस्पात को ओक्सीडेशन से बचाया जाता है।

Jindal Steel Ltd Recruitment 2023 For Basic Details:

COMPANY NAMEJSW STEEL LTD
JOB LOCATIONMAHARASTRA
TOTAL POSTCOMPANY NOT DISCLOSE
GENDERMALE/FEMALE
AGE LIMITMAX. 27
APPLY MODEONLINE

Jindal Steel Ltd Recruitment 2023 For Qualification Details:

  • BE – GET
  • Btech – GET
  • Diploma – DET
  • Branch – Mechanical, Electrical, Chemical, Air Conditioning, Refigeration, Electronics Etc.

Eligibility Criteria:

  • DET AGE LIMIT – UNDER 26 YEAR
  • GET AGE LIMIT – 27 YEAR
  • PASS OUT YEAR – 2021 TO 2023
  • WHICH STATE CONDIDATE – ONLY RAIGARH, MAHARASTRA CONDIDATE ALLOW
  • WHAT PERCENTAGE SHOULD BE – SHOULD BE PASS IN 60% AND NO BACK LOGS

Selection Process :

  • ONLINE APPLY
  • MERIT LIST
  • PERSONAL INTERVIEW
  • MEDICAL TEST

Jindal Steel Ltd Recruitment 2023 For Required Documents:

1.) RESUME

2.) MARKSHEET

3.) AADHAR CARD

4.) PAN CARD

5.) BANK PASSBOOK

6.) PASS PORTSIZE PHOTO

7.) COVID CERTIFICATE

Important Note :

1.) जिस कंडीडेट ने भी दिसंबर 2022 में इसका फॉर्म ऑनलाइन फइलल किया था वो अप्लाई करने के लिए योग्य नहीं होगा।

2.) जो भी लोग चयनित होंगे उन्हें भारत के किसी भी कोने में जॉब के लिए भेजा जा सकता है

Interview Date :

Start Date – 08/11/2023

Last Date – 23/11/2023

NOTIFICATION LINK – CLICK HERE

APPLY FOR DET – CLICK HERE

APPLY FOR GET – CLICK HERE

Leave a Comment

<